Home » Health & Fitness » डॉक्टर ने 12 साल के बच्चे के माथे पर उगा दी नाक, बिना नाक का था लड़का
loading...

डॉक्टर ने 12 साल के बच्चे के माथे पर उगा दी नाक, बिना नाक का था लड़का

मेडिकल साइंस और टेक्नोलॉजी के मेल ने सबकुछ संभव कर दिया है। ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश के इंदौर में देखने मिला। उज्जैन जिले के 12 वर्षीय अरुण पटेल के सिर पर नाक उगाकर सर्जन डॉ. अश्विनी दास ने चेहरे पर लगा दी। दरअसल 12 वर्ष पहले महज एक माह की उम्र में गलत इंजेक्शन लगने से अरुण की नाक गल गई थी। इंदौर के सर्जन डॉ. दाश ने यह चुनौती स्वीकार की और मध्यभारत में पहली बार प्री फैब्रिकेटेड फोरहेड फ्लैप रायनोप्लास्टि सर्जरी से अरुण को दोबार नाक लगाई गई।

Noes1

Read More : – 5 सौ साल पहले मुंह में पत्थर ठूंसकर जलायी गई थी ये खतरनाक चुड़ैल

बनी कहानियां
उज्जैन जिले के बडऩगर के पास स्थित गांव छानखेड़ी निवासी अरुण के नाना गोवर्धन सिंह ने बताया, बिना नाक के बच्चे को देख गांव के लोग तरह-तरह की कहानियां बनाते थे। गत वर्ष प्लास्टिक सर्जरी कराकर गांव लौटे परिवार ने बताया कि अरुण का इलाज संभव है। इसके बाद हम इंदौर लेकर आए।

Read More : – महिला के घर में घुसा अजगर, वीडियो वायरल

चिढ़ाते थे बच्चे
अरुण ने कहा कि पहले गांव के बच्चे चिढ़ाते थे। ऑपरेशन के बाद चेहरे पर नाक लगने के बाद ऐसा महसूस कर रहा हूं मानो नया जीवन मिल गया हो। आत्मविश्वास से भर गया हूं। बिना नाक के लड़के के चेहरे पर उसके मांस से नाक बनाने की प्रक्रिया में लगभग एक साल का समय लगा। इसके बाद तीन ऑपरेशन के बाद नाक चेहरे पर ट्रांसप्लांट की गई।

nose2

Read More : – ऐसी ‘ब्रा’ पहनकर महिलाएं बढ़ाए अपने ब्रेस्ट की साइज

खास-खास
-अरुण के सिर पर जगह बनाकर सिलीकॉन थैली स्थापित की। यह प्रक्रिया टिश्यूू एक्सपांड करने के लिए थी। तीन महीने तक माथे पर लगी थैली ने फैलते हुए स्थान निर्मित किया।
-तीन महीने बाद सिर के अंदर कार्टिलेज से बनी नाक को निकालकर चेहरे पर ट्रांसप्लांट किया गया। जहां उसे हर बारीक नस से जोड़ा गया, जिससे ब्लड सर्कुलेशन सामान्य हो सके।
-सिने के निचले हिस्से से कार्टिलेज निकाली गई, जिससे उसके चेहरे की संरचना के अनुरूप कृत्रिम नाक तैयार की। इसे माथे पर बनाई जगह पर रखा। तीन महीने तक नाक को सिरे के अंदर ही रखा, जिससे सामान्य अंगों की तरह काम करने लगे।

Check Also

kela

औरतों की इस समस्या का रामबाण इलाज है ये फूल

दक्षिण भारत में केले के फूल की सब्जियां बड़े चाव से खाई जाती है। इसमें …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...